Tuesday, December 1, 2009




महंगाई के विरुद्ध
शुरू हो गया नेताओं के, भाषण का उन्मादी युद्ध ??

लड़ाकू विमान में !
बैठ गए सब रुई ठूंसकर, अपने-अपने कान में !!

'क़ानून-दिवस' मनाया !
खुद हम उसको कैसे तोड़ें, इस बारे में भी समझाया ??

तबाही की वो रात !
छब्बिस-ग्यारह के हमलों पर, संसद में क्या उछली बात ??

शहीदों पर नाज !
सिर्फ हमें करना है आज ??

भूख-हड़ताल !
जब तक भूखा ख़त्म नहीं हो, भूख इस कदर लम्बी टाल !!

कार्य-बहिष्कार !
जिन पर कार्य नहीं है उनको, पूरा है इसका अधिकार !!

मशाल-जुलूस !
पिलवाया मांगों का जूस ??

दम तोड़ा !
बीवी-बच्चों को क्या छोड़ा ??

शहीद !
इनके घर क्या दीवाली थी, इनके घर क्या होगी ईद ??

प्रोपर्टी-विवाद में !
'फोटो पर माला चढ़ती है,' इतना रक्खें याद में !!
-अतुल मिश्र


2 comments:

aamin said...

बहुत अच्छा लिखा
मैंने अपने ब्लॉग पर भी इसे दाल दिया है
थैंक्स

hindwaarta said...

Dhanyavaad, Aamin !!