Thursday, December 10, 2009




सोनिया गांधी को जन्मदिन की बधाई !
रंग खेलकर, ढोल बजाकर, दे दी, क्योंकि थी महंगाई !!

कार्यक्रम !
जिनमें कार्य पूर्ण होने का, बना रहे आखिर तक भ्रम !!

अफसर !
उच्चपदी चरणों में बिछकर, मातहतों को डांटे जमकर !!

बाबू !
बिन बापू के छपे नोट वो, दिए नहीं आता है काबू !!

शिक्षा-अभियान !
जो हिंदी में गाली दे ले, उसको भी शिक्षित ही मान !!

चीन !
अपनी आबादी की ख़ातिर, कब्जाए निकटस्थ ज़मीन !!

हादसा !
मरने वाले के परिजन को, रह जाता है याद सा !!

महंगा !
छोटी सी स्कर्ट खरीदो, नहीं ज़रूरी, पहनो लहंगा !!

कला !
सरकारी चोरी कर ली पर, पता किसी को नहीं चला !!

सम्मान !
क्या यह हमको फ्री मिलेगा, अगर बेच डालें ईमान ??

पुरस्कार !
हो सकता है कि चुनाव से, पहले इसकी आये बहार !!
-अतुल मिश्र


2 comments:

mahima said...

bohut achha
sach aap bohut acche lekhak hain

प्रवीण त्रिवेदी ╬ PRAVEEN TRIVEDI said...

बढ़िया कटाक्ष !!